Wednesday, September 29, 2010

एक श्रद्धांजली पिताजी को ......

आज बाबूजी कि एक कविता पोस्ट कर रही हूँ ?मेरे बाबूजी अल्प आयु में ही इस संसार को छोड़ कर चले गये |बहुत संघर्शो के साथ पढाई पूरी की |परिवार कि जिम्मेवारियो को निबाहते हुए १६ साल कि उम्र से ही नौकरी शुरू कि कितु पढाई जारी रखी और कालेज में प्राध्यापक के मुकाम तक पहुंचे जो कि उस समय ५० और ६० के दशक में बहुत महत्व रखता था |इस बीच उनका लेखन कार्य ,रेडियो पर वार्ताए ,कवि सम्मेलनों का आयोजन ,नगर (खंडवा )कि सांस्क्रतिक गतिविधियों में भाग लेना भी सुचारू रूप से चलता रहा |निम्न लिखित कविता उनके कविता संग्रह "लोग लोग और लोग "से है |यह कविता सन ६५ में लिखी थी |


"दिनमान "
मैंने अपनी दीवाल पर
किल से जड़ लिया है
समय को
रोज शाम सूरज
मेरे केलेंडर का एक दिन
फाड़ देता है और
मै अपने इतिहास में
अनुभव का एक नया पृष्ट
जोड़ लेता हूँ |
इतिहास ,धर्म और सभ्यता का
भरी लबादा ओढ़
मै कबसे समय को
पीछे से पकड़ने की
करता रहा हूँ नाकाम कोशिश
और समय सदा ही
उस मेहनतकश के साथ रहा
जिसने उगते सूरज के साथ
उसे थाम लिया
और फिर श्रम से
नापता रहा दिनमान |
हर सुबह उसके लिए
नये साल का पहला दिन है
और साँझ इकतीस दिसंबर
वह वर्षगांठ और जन्मदिन की
संधि बेला में
कभी उदास नहीं होता मेरी तरह
क्योकि तवारीख का बोझ
उसके सर पर नहीं है
उसने जिन्दगी का रस
छक कर पिया है
वह समय के साथ
उन्मुक्त जिया है !
स्व.नारायण उपाध्याय (बाबूजी )




Tuesday, September 28, 2010

"पितृ -पक्ष और खरीददारी"

पितृ पक्ष में हमारे सारे भारत में ऑर जहाँ जहाँ भी भारतीय लोग बसे है बहुत श्रद्धा के साथ हमारे पूर्वजो को याद किया जाता है |अपने परिवार ऑर कुटुंब के साथ पितरो को तर्पण ,ब्राम्हण भोजन आदि कराया जाता है |इसके साथ ही कई मान्यताये जुडी होती है कई कार्य निषिद्ध होते है |जिसमे नये कपड़े खरीदना ,नै गाड़ी खरीदना ,नये मकान में प्रवेश करना ,ऑर भी कोई नई वास्तु का प्रयोग करना आदि |मै अपने बचपन से सुनती आई हूँ और इसका पालन भी किया है चलो क्या जाता है ?अगर १५ दिन कोई नई वस्तु नहीं वापरेंगे तो क्या हो जायगा ?किन्तु हमेशा प्रश्न अनुतरित ही रहता कि क्यों?जब हम बाजार से सब्जी,अनाज ,ऑर खाने कि चीजे खरीद कर लाते है खाते है ?तो फिर अन्य वस्तुए क्यों नहीं ?
ऑर आजकल तो अख़बार में विज्ञापन भी आने लगे है कि ज्योतिषियों ने कहा है नई वस्तुए खरीदने में कोई अड़चन नहीं ?अब ये बाजार का बाजारवाद है ,अथवा हमारी असहनशीलता कि हम कितना नियंत्रण रख पाते है ,खरीददारी पर |
मेरे इस प्रश्न के जवाब में मुझे कुछ जानकारी मिली है कि ,श्राद्ध पक्ष में नई वस्तुओ कि खरीददारी इसलिए नहीं करते है कि अगर हम कोई नई वस्तु लाते है तो हमारा पूरा ध्यान उसी पर रहता है ऑर हम हमारे पूर्वजो कि आवभगत मन से नहीं कर पाते जितना सम्मान उन्हें देना चहिये उतना नहीं दे पाते हमारा ध्यान बंट जाता है |
मै कुछ संतुष्ट नहीं हूँ इस उत्तर से |
आप सब लोग क्या कहते है ?कृपया अपने विचारो से अवगत कराये ताकि आने वाली पीढ़ी को भी सही मार्गदर्शन मिल जाये |

Tuesday, September 21, 2010

"कोरे दीपक "

मै नहीं जानती
कैसे ?
मेरा
समूचा वजूद
एकअधूरे
नव निर्मित भवन के
छोटे छोटे से
कमरों में
कैद होकर
रह गया है?


पुराने घर की
छत पर
मिटटी के कोरे दीपक
इंतजार में है
पूजे जाने के लिए
मानो
घुटनों में सर दबाये
मेरा बैठना

तेल और बाती
का अभिमान
मै नहीं जानती
कैसे ?
जला जाता है
मेरा
समूचा वजूद |



Saturday, September 18, 2010

"गप शप "

एक अरसे बाद दोनों सहेलियों ने दोपहर कि चाय पर मिलना तय किया एक अच्छे से रेस्तरां में|
इत्तफाक से दोनों कि सास को कुछ ही समय हुआ था परलोक सिधारे हुए |
समाज को सुधरना चाहिए? इस बात पर थोड़ी चर्चा की फिर एक ने चाय का एक घूंट लेते हुए अपनी सहेली से पूछा ?
और कैसा रहा ?तुम्हारी सास के अंतिम क्रिया का कार्यक्रम ?मै तो ऐसे कार्यक्रमों का बहिष्कार करती हूँ इसलिए नहीं पाई तुम्हारे घर |
अच्छा ही रहा कार्यक्रम !उन्होंने मीठा कई सालो से खाया नहीं था, इसलिए मैंने उनकी तेरहवी में लोगो को खूब तरह तरह की मिठाई खिलाई |
उसने एक पकोड़ी खाई और कहा |
सहेली ने अपनी सहेली से पूछा ?
तुम्हारी सास का कार्यक्रम कैसा रहा ?
तुम्हे तो मालूम ही है २० साल पहले उन्हें हार्ट में थोड़ी तकलीफ हुई थी तबसे मैंने उन्हें घी तेल देना बंद कर दिया था
फिर बिना घी तेल के कैसा खाना बन सकता है ?
इतना कहकर दोनों ने चाय पकोड़ी ख़त्म की और एक दुसरे को शुभकामना देकर अगली बार मिलने का वादा किया|

Monday, September 13, 2010

"गणपति बप्पा मोरया "


गणेशोत्सव खूब धूमधाम से मनाया जा रहा है हर जगह गणपति जी मेहमान बनकर आये है दस दिन के लिए बड़े बड़े पंडाल ,गणेश मन्दिरों में आकर्षक झांकिया, जगमगाती बेहिसाब बिजली की रौशनी ,अनवरत चलते भंडारे ,तर माल,हलुए का प्रसाद | मंदिरों में सरकारी लोगो का आगमन ,उनके आगे पीछे घूमते माथे पर तिलक लगाये धोती कुरते ( जैसे फेंसी ड्रेस प्रतियोगिता )पहने पुजारी |सरकारी लोगो के सुरक्षा कर्मी पीछे पीछे उनके परिवार (बहती गंगा में हाथ धो ही ले )साथ में सीना ताने कुछ पार्षद |बुद्धि ? नहीं धन की कामना करने वाले |विशुद्ध दर्शन करने लम्बी लगी भक्तो की कतार को बीच में रोककर गणेशजी की कृपा पाने को आतुर इन विशिष्ट भक्तो को देखकर मेरा कुलबुलाता मन |
गणेशजी को प्रणाम भी नहीं कर पाई ,और पिछले साल लिखी गई पोस्ट जस की तस |हालत भी जस के तस |
और इस बीच नई खबर: बाबाओ का स्टिगओपरेशन मिडिया द्वारा |"पिपली लाइव "फिल्म देखकर मिडिया पर कितना विश्वास करेगी जनता ?ये सोच का विषय है कितु इससे भी ज्यादा सोच का विषय है इस फिल्म को देखने वाले कौन लोग है ?समाज पर इसका असर है ?या समाज को देखकर बनाई है जिस समाज को देखकर बनाई है क्या उन्होंने देखा है इसे ?
स्कूल के दिनों में हिन्दी विषय के अंतर्गत बाबा भारती का घोड़ा की कहानी पढाई जाती थी कहानी का शीर्षक था "हारजीत"के लेखक थे सुदर्शन |बाद में टिप्पणी लिखो :में पूछा जाता था इस कहानी से क्या शिक्षा मिली?क्या संदेस देती है ये कहानी ?तब तो रट रट कर बहुत कुछ लिख देते थे और नंबर भी पा लेते थे |कितु न तो कभी बाबा भारती ही बन पाए और न ही कभी ह्रदय परिवर्तन होने वाले डाकू खड्गसिँह को अपने जीवन में उतार पाए |
आज बाबा भारती(नकली ) बहुत है , सुलतान को बेचने वाले ,आलिशान कुटियों में रहने वाले और डाकुओ के साथ रहकर व्यापार करने वाले |
पिछले दिनों से लगातार समाचार आ रहे है नकली खून के बाजार के |
स्तब्ध हूँ, क्षुब्ध हूँ किंतु अब लगता है की सचमुच भारत भगवान के भरोसे ही चल रहा है |


ईमान तो
कब का बेच दिया !
थाली की
दाल रोटी भी चुराकर
बेच दी !
त्यौहार अभी आए नही ?
पकवानों की मिठास ही
बेच दी !

नकली घीं
नकली दूध
नकली मसाले
और अब
नकली खून ?
कौनसी ?
ख्वाहिश मे
तुमने पेट की आग
खरीद ली
तुम भूल रहे हो
आग हमेशा ही जलाती है
तुमने
दाल, चीनी गेहू और
खून
नही जमा किया है ?
तुमने जमा की है
अपने गोदाम मे
इनके बदले
ईमानदार की आहे
मेहनतकश की
बद्ददुआए
प्रक्रति की
समान वितरण प्रणाली को
असमानता मे तब्दील कर
तुमने अपनी भूख
बढ़ा ली है
व्यापार के सिद्धांतो
को तोड़कर
प्रक्रति से
दुश्मनी मोल ले ली है
बेवक्त की भूख
कभी शांत नही होती|

"गणेशोत्सव कि शुभकामनाये"




Thursday, September 09, 2010

"काठ कि पुतली "

थकी आँखों को पलकों ने ,
अपना लिहाफ ओढ़ा दिया ,
नज़र आते थे जो अपने ,
बंद आँखों ने भ्रम तोड़ दिया |

पीले पत्तो कि नियति है ,शाख से गिरना ,
मिटटी में मिलना,
हरे पत्ते भी कभी पीले होंगे,
अपने
लहलहाने में उन्हें ये इल्म कहाँ ?

रिश्ते जो घर में निषिद्ध होते है
सिर्फ यादो में ही होते है ,
डरती हूँ ,यादो को भी न आने की ,
हिदायत न दे दो ?


कोने में पड़े दीवान कि मानिंद चुभती हूँ,
और
तो बहुत फेंक दिया है,
काठ की पुतली बदरंग हो गई है ,
ये न सोच लो! बनके मेरे मेहरबाँ.........



Tuesday, September 07, 2010

"हर सिंगार कि महक "




गुलाब के आलावा और भी
बहुत कुछ है


हर साल
हमेशा


सफेद खिले चांदनी के फूल
कहते है मुझे

हम अनगिनत है
तौले नहीं जा सकते ?

हममे कांटे नहीं
बच्चे भी सहला ले हमे

मेरा भाई है भी तो है कनेर
लाल है ,
पीला
है ,नारंगी है

गूँथ लो हमे साथ साथ
साथ में चाहो तो गुडहल लगा लो
साथ
में चाहो तो तिवड़ा लगा लो
हम
है एक परिवार आते है
साथ
साथ रहते है
साथ

पर तुम तो
गुलाबो
के आदि हो गये हो
क्या
हुआ ?
क्या
कहा ?
खुशबू
नहीं है ?
इतने में
हर सिंगार महक उठा
मै तो हूँ खुशबू के लिए
मुझे भी गूँथ दो साथ साथ
अकेले मुरझा जाऊंगा
मुझे अकेले रहने की आदत नहीं
सारे फूल खिलखिला उठे
एक ही माला में
और मै
गुलाबो की आरजू
छोड़
महक गई हर सिंगार में |



Thursday, September 02, 2010

स्पंदन

बहुत पहले लिखी थी ये पोस्ट आज फिर दे रही हूँ
राधा का अर्थ है ...मोक्ष की प्राप्ति
'रा' का अर्थ है 'मोक्ष' और 'ध' का अर्थ है 'प्राप्ति'
कृष्ण जब वृन्दावन से मथुरा गए,तब से उनके जीवन में एक पल भी विश्राम नही था|
उन्होंने आतताइयों से प्रजा की रक्षा की, राजाओं को उनके लुटे हुए राज्य वापिस दिलवाये और सोलह हज़ार स्त्रियों को उनके स्त्रीत्व की गरिमा प्रदान ki
उन्होंने अन्य कईं जन हित कार्यों में अपने जीवन का उत्सर्ग किया उन्होंने कोई चमत्कार करके लड़ाइयाँ नही जीती,अपनी बुद्धि योग और ज्ञान के आधार पर जीवन को सार्थक किया मनुष्य का जन्म लेकर , मानवता की...उसके अधिकारों की सदैव रक्षा की
वे जीवन भर चलते रहे , कभी भी स्थिर नही रहेजहाँ उनकी पुकार हुई,वे सहायता जुटाते रहे|

इधर जब से कृष्ण वृन्दावन से गए, गोपियान्न और राधा तो मानो अपना अस्तित्व ही को चुकी थी
राधा ने कृष्ण के वियोग में अपनी सुधबुध ही खो दी,मानो उनके प्राण ही न हो केवल काया मात्र रह गई थी
राधा को वियोगिनी देख कर ,कितने ही महान कवियों ने ,लेखको ने राधा के पक्ष में कान्हा को निर्मोही आदि संज्ञाओं की उपाधि दी
दे भी क्यूँ न????
राधा का प्रेम ही ऐसा अलौकिक था...उसकी साक्षी थी यमुना जी की लहरें , वृन्दावन की वे कुंजन गलियां , वो कदम्ब का पेड़, वो गोधुली बेला जब श्याम गायें चरा कर वापिस आते थे , वो मुरली की स्वर लहरी जो सदैव वह की हवाओं में विद्यमान रहती हैराधा जो वनों में भटकती ,कृष्ण कृष्ण पुकारती,अपने प्रेम को अमर बनाती,उसकी पुकार सुन कर भी ,कृष्ण ने एक बार भी पलट कर पीछे नही देखा ...तो क्यूँ न वो निर्मोही एवं कठोर हृदय कहलाये ,किन्तु कृष्ण के हृदय का स्पंदन किसी ने नही सुना स्वयं कृष्ण को कहाँ , कभी समय मिला कि वो अपने हृदये की बात..मन की बात सुन सके या फिर यह उनका अभिनय था!


जब अपने ही कुटुंब से व्यथित हो कर प्रभास -क्षेत्र में लेट कर चिंतन कर रहे थे तो 'जरा' के छोडे तीर की चुभन महसूस हुई तभी उन्होंने देहोत्सर्ग करते हुए ,'राधा' शब्द का उच्चारण किया,जिसे 'जरा' ने सुना और 'उद्धव' को जो उसी समय वहां पहुंचे ..उन्हें उनकी आंखों से आंसू लगातार बहते जा रहे हैं ,सभी लोगों ,अर्जुन ,मथुरा आदि लोगो को कृष्ण का संदेश देने के बाद ,जब उद्धव ,राधा के पास पहुंचे ,तो वे केवल इतना कह सके ---
" राधा, कान्हा तो सारे संसार के थे ...
किन्तु राधा तो केवल कृष्ण के हृदय में थी"


साथ ही एक दैनिक प्रार्थना जो मुझे हर पल आनन्द से जीने का संबल देती है |
प्रार्थना
सांवरे घन श्याम तुम तो ,प्रेम के अवतार हो ,
फंस रहा हूँ झंझटो में ,तुम ही खेवनहार हो ,
चल रही आँधी भयानक ,भंवर में नैया पड़ी ,
थाम लो पतवार हे ! गिरधर तो बेडा पर हो ,
नगन पद गज के रुदन पर, दौड़ने वाले प्रभु ,
देखना निष्फल न मेरे , आंसुओ की धार हो ,
आपका दर्शन मुझे इस छवि में बारम्बार हो ,
हाथ में मुरली मुकुट सिर पर गले बन माल हो ,
है यही अंतिम विनय तुमसे, मेरी ए नन्दलाल ,
मै तुम्हारा दास हूँ और तुम, मेरे महाराज हो ,
मै तुम्हारा दास हूँ और तुम, मेरे महाराज हो..........................
इसे यहाँ मेरी आवाज में भी सुन सकते है |


|
video