Saturday, October 04, 2008

कैसी पूजा ?कैसी संस्क्रती ?कैसी श्रद्धा ?


मन्दिरों में बेहिसाब चढावा ,
तीस से .मी .की करोडो "चुननिया ?
करोडो के पंडालों में ,थिरकते ,लाखो लोग |
विदेशो में पूजा में ,
पारम्परिक भारतीय पहनावा ,
भारत में 'आरतियों 'में
वेदेशी पहनावा |
शर्धा ऐसी की
बुढे माँ= बाप
तरसते है सहारे को ,
और मन्दिरों मे ,जुता स्टेंड पर ,
"सेवा "देकर धार्मिक" शर्धा ",से
ओतप्रोत है श्रद्धालु |

3 टिप्पणियाँ:

penny stock newsletter said...

wow, very special, i like it.

makrand said...

u said very right
shrdha ka addha khub chalta he
visit my blog
between the lines
url makrand-bhagwat.blogspot

Anonymous said...

makrandji
bhut bhut dhanywad .
apka blog pdha bhut acha likha hai
curant topic hai jo hm sbke dil me hai apne use bhut sundar abhivykti di hai.
likhte rhe
shobhana