Sunday, October 04, 2009

एक निर्धन ब्राह्मण " लघु कथा"

आप सभी लोगो का ह्रदय से धन्यवाद करती हूँ जो आपने मेरी लिखी कहानी "सुख की पाती "को पसंद किया और अपने अमूल्य विचारो से उसे सम्मान दिया |ये कहानी मैंने तीन साल पहले लिखी थी |
आप सभी के प्रोत्साहन और मार्ग दर्शन से प्रेरित होकर एक लघु कथा पोस्ट कर रही हूँ |


"एक निर्धन ब्राह्मण "

पंडित विष्णु प्रसादजी के घर के सामने बिलकुल नई सी दिखने वाली कार पिछले दो दिनों से खडी थी |अधिकतर तो पंडितजी को हमेशा अलग अलग तरह कि कारों में आते जाते देखा है , जिन्हें भी पूजा करवाना वे ही आकर ले जाते|और समय पर घर छोड़ जाते |
गली के बाहर से हार्न बजता और पंडितजी अपनी सजी धजी वेशभूषा रेशमी धोती, रेशमी कुरते में हाथ में पोथियों का झोला लेकर निकल पड़ते |अडोसी पडोसी भी उन्हें देखने का लोभ संवरण नही कर पाते |कहाँ तो पंडितजी एक मटमैली धोती पहने हाथ में छाता लिए (जो कि कोई यजमान कि तेरहवी में दान में मिला था )पसीना पोंछते पोंछते पैदल आते जाते थे ,बडी मुश्किल से सत्यनारायनजी कि कथा ! या कभी कभी कोई विवाह के मौसम में दो चार विवाह करा देते थे| |नही तो पुरे समय मन्दिर में कलावा बाँधने से ही परिवार कि गुजर बसर होती थी |पर धीरे धीरे उन्होंने दान में मिली हुई चीजो को जबसे दोबारा उपयोग करना और न काम में आने वाली वस्तुओ को दुकानों में देना शुरू किया, दिन ही पलट गये |अच्छी सफेद धोती पहनकर स्कूटर पर जाना शुरू किया तो घर के बाहर यजमानो कि भीड़ ही लगी रहती |दो दो मोबाइल रखने पड़ गये |मंदिर में कलावा बाँधने के लिए एक असिस्टेंट रख लिया |श्रीमती तुलसी विष्णुप्रसाद भी एक से एक नई साडिया गहने पहने भजनों में जाती और ढोलक कि थाप पर जोर जोर से भजन गाती |
अब तो पंडितजी ने एक ज्योतिषी से गठबंधन कर लिया जितने भी ग्रहों के जाप हो सकते है ?वो सब ज्योतिषीजी यजमान को बता देते और पंडितजी के नाम का सुझाव दे देते |
यजमान को कहाँ इतनी फुर्सत थी ,?
एक के दो करने से? वो सीधे पंडितजी को कॉल करते और अग्रिम राशिः दे जाते. जाप और पूजा करने कि| पंडितजी कि तो चल पडी थी .|अब तो कुल मिलकर उनके पॉँच सहयोगी हो गये थे |
पडोसी शंकर प्रसाद और उनकी पत्नी पारवती दोनों स्कूल में शिक्षक शिक्षिका थे ,उन्हें भी लगने लगा ये सब छोड़कर पंडिताई शुरू कर दे तो अच्छा रहे आठवी पास पंडितजी ने कितनी उन्नति कर ली है |
आते जाते लोग कार को प्रश्न वाचक निगाहों से देखते और कभी कभी ?दिखने वाले पंडितजी से हाल चाल पूछकर चल देते |
आखिर शंकर प्रसाद ने पंडितजी को पूछ ही लिया ?
क्यों पंडितजी? ये कार यहाँ कैसे खडी है?
आने जाने वालो को चलने में कठिनाई होती है |जिनकी है उन्हें कह क्यों नही देते? कि अपनी गाड़ी ले जाये |
अरे नही भाई! ये तो अब यही रहेगी ये मेरी कार है | पंडितजी ने थोड़े रुआब से कहा --
आश्चर्य से शंकर प्रसादजी ने देखा? पंडितजी कि तरफ |
हाँ भाई मेरे वो यजमान है न? जिन्हें ओवर ब्रिज बनाने का ठेका मिला है, उन्होंने ही मुझे भेट में दी है |अभी चार दिन पहले तो भूमि पूजा करवाई है |
मेरी गाढ़ी कमाई कि है |आप ऐसे क्यों देख रहे है ?मैंने कोई रिश्वत में थोड़े ही ली है ?
शंकर प्रसादजी को अपनी पूरी शिक्षा डग्गम डग दिखाई देने लगी ............

22 टिप्पणियाँ:

श्रीश पाठक 'प्रखर' said...

अच्छी चोट लगाई आपने 'निर्धन ब्राह्मण' को. इस प्रवृत्ति की आलोचना होनी ही चाहिए..लघु-कथा अपने उद्देश्य में सफल है ....बधाई..

Rakesh said...

wah
brahmin v bhagwan ko khush kerne wale kerane wale sare aam riswat ka ye jo prachalan samskar mein daal rehe hai ki fallan rupaiya ka prasad chadhane per aap ka karya ho jayega ...ye pravarti esi tarah dabe paawn jan samskar mein es tarah ghar ker jati hai ki riswat ki ek parampra chalne lagti hai.....aapki ye chotti si kahani bahut satik prahar ker gayi...badhai ...

रश्मि प्रभा... said...

nirdhan brahman ke kya kahne !

राज भाटिय़ा said...

बेचारा 'निर्धन ब्राह्मण' अरे नही..बेचारा ओवर ब्रिज कहानी बहुत सुंदर लगी.
धन्यवाद

ज्योति सिंह said...

maza aa gaya padhkar saath hi bharpur aanand bhi liya .kya jalwe hai panditai me .shikshaa bhi fiki par gayi .ati uttam vyag ki tasvir .saadgi aur sundarata khasiyat hai aapki lekhan shaily ki .kal apne mitr se uske ghar par aapki rachana ki tarif bhi kar rahi thi jo aapke blog se bhi judi hui hai aur usne bhi sahmati di .

वाणी गीत said...

जब सभी व्यापर लाभ की दृष्टि से ही किये जा रहे हैं तो बेचारे गरीब ब्राह्मण ने क्या गलत किया ...पूजा पाठ कराना उसका व्यापार ही तो है ..तस्वीर के दुसरे रुख को भी ध्यान में रखा जाना चाहिए ...
जहाँ तक शिक्षा की बात है ...इसका बाजारीकरण भी हो ही चुका है ...ऐसे कितने शिक्षक होंगे जो बिना किसी लाभ के अपनी शिक्षा का प्रकाश फैलाते हैं ..!!

Dipak 'Mashal' said...

aapki likhi laghukatha ho ya kavita ya kuchh aur, inhen padhna appne aap me ek tajurba lena hai.

वन्दना अवस्थी दुबे said...

बहुत सुन्दर और यथार्थवादी लघुकथा.

शरद कोकास said...

बढ़िया कथा है ओवर्ब्रिज के ठेकेदार ने धर्म के ठेकेदार को उपहार दिया , आखिर भ्रष्टाचार् की कमाई का भागीदार भी भ्रष्टाचारी ही हुआ ना

अल्पना वर्मा said...

आप की कहानियां समाज के बदलते स्वरुप पर आधारित होती हैं यह भी पंडितों और पूजा के बदले रूप यानि उनके आधुनिकीकरण का एक उदाहरण है.अब कलेवा बाँधने के लिए assistant रखना !..खूब रहा..

वहीँ गठबंधन लगभग हर क्षेत्र में हो गया है फिर यह क्षेत्र क्यूँ छूटे..?
प्रहार करती हुई कथा एक सवाल उठा रही है ...अब मूल्यों का इस से ज्यादा और क्या पतन होगा?
bahut achchhee kahani hai.
[main ne aap ki pichhali kahaniyan poori nahin padhin -unhen bhi padh kar fir wahan comment likhungi]

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

सच के करीब है यह लघुकथा।
करवाचौथ और दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।
----------
बोटी-बोटी जिस्म नुचवाना कैसा लगता होगा?

sandhyagupta said...

'Arth puja' sabse badi puja.

नवीन त्यागी said...

bahut achchhi kahani hai. ese hi likhte rahiye

नवीन त्यागी said...

bahut achchhi kahani hai. ese hi likhte rahiye

Mumukshh Ki Rachanain said...

स्वार्थ का महागठबंधन.

कहानी काफी प्रभावशाली रही.

प्रगति इसे ही अब तो सभी मानाने लग गए.

अब इसी तरह की प्रक्टिकल कक्षाओं की कोचिंग प्रारंभ होनी चाहिए. पुरातन सिक्षाएं व्यर्थ सी अप्रगातिकारी सी दिखने लगी है, चलो कुछ नया हो जाये............प्रगति के नाम पर तो सब चलता है...........

चन्द्र मोहन गुप्त
जयपुर
www.cmgupta.blogspot.com

Rajey Sha said...

दुनि‍या कि‍सको चालाक नहीं बना देती ?

Devendra said...

मैने कोई रिश्वत में थोड़े ही ली है
गाढ़ी कमाई के इस रूप ने मन मोह लिया।

Anonymous said...
This comment has been removed by a blog administrator.
Anonymous said...
This comment has been removed by a blog administrator.
日月神教-任我行 said...

視訊做愛,免費視訊,伊莉討論區,sogo論壇,台灣論壇,plus論壇,維克斯論壇,情色論壇,性感影片,正妹,走光,色遊戲,情色自拍,kk俱樂部,好玩遊戲,免費遊戲,貼圖區,好玩遊戲區,中部人聊天室,情色視訊聊天室,聊天室ut,成人遊戲,免費成人影片,成人光碟,情色遊戲,情色a片,情色網,性愛自拍,美女寫真,亂倫,戀愛ING,免費視訊聊天,視訊聊天,成人短片,美女交友,美女遊戲,18禁,三級片,自拍,後宮電影院,85cc,免費影片,線上遊戲,色情遊戲,日本a片,美女,成人圖片區,avdvd,色情遊戲,情色貼圖,女優,偷拍,情色視訊,愛情小說,85cc成人片,成人貼圖站,成人論壇,080聊天室,色情

仔仔 said...

AV,無碼,a片免費看,自拍貼圖,伊莉,微風論壇,成人聊天室,成人電影,成人文學,成人貼圖區,成人網站,一葉情貼圖片區,色情漫畫,言情小說,情色論壇,臺灣情色網,色情影片,色情,成人影城,080視訊聊天室,a片,A漫,h漫,麗的色遊戲,同志色教館,AV女優,SEX,咆哮小老鼠,85cc免費影片,正妹牆,ut聊天室,豆豆聊天室,聊天室,情色小說,aio,成人,微風成人,做愛,成人貼圖,18成人,嘟嘟成人網,aio交友愛情館,情色文學,色情小說,色情網站,情色,A片下載,嘟嘟情人色網,成人影片,成人圖片,成人文章,成人小說,成人漫畫,視訊聊天室,性愛,正妹牆,情色視訊,愛情小說,85cc成人片,成人貼圖站

水煎包amber said...

cool!very creative!avdvd,色情遊戲,情色貼圖,女優,偷拍,情色視訊,愛情小說,85cc成人片,成人貼圖站,成人論壇,080聊天室,080苗栗人聊天室,免費a片,視訊美女,視訊做愛,免費視訊,伊莉討論區,sogo論壇,台灣論壇,plus論壇,維克斯論壇,情色論壇,性感影片,正妹,走光,色遊戲,情色自拍,kk俱樂部,好玩遊戲,免費遊戲,貼圖區,好玩遊戲區,中部人聊天室,情色視訊聊天室,聊天室ut,成人遊戲,免費成人影片,成人光碟,情色遊戲,情色a片,情色網,性愛自拍,美女寫真,亂倫,戀愛ING,免費視訊聊天,視訊聊天,成人短片,美女交友,美女遊戲,18禁,三級片,自拍,後宮電影院,85cc,免費影片,線上遊戲,色情遊戲,情色