Saturday, November 07, 2009

गुनगुनी धुप

गुलाबी गुलाबी ठण्ड शुरू
हो गई है हाथ खोलने के दिन गये
हाथ बांधने के दिन आगये |पॉँच बजते ही सूरज देवत अपना रूप समेटने लगते है , मजदूरों के जलते चूल्हे साँझ की झुरमुट में सूरज की जगह ले लेते है |और तभी मन में कुछ ख्याल आने लगते है |

अब आई है ठण्ड
अपने पंख फैलाकर
घर की चोखटे सजी है
धुप के टुकडो से |
दादी बैठी खटिया पर ,
मालिश का तेल लेकर |
दादाजी कम्बल ओढे बैठे है ,
टी वी के सामने |
नन्हा पानी को देखकर ,
सर पर रजाई ओढ़कर
फ़िर सो गया |
पापा टी वी के सामने बैठकर ,
हाथ में पेपर लेकर
चाय पर चाय गुड़क रहे है |
दीदी फटाफट तेयार हो गई है
कॉलेज जाने के लिए
माँ फिरकनी सी
कभी पराठे सेंकती ,कभी हलवा बनाती |
तरस गई है
, कुनकुनी धुप के लिए
मै कब तक बचूंगा ,
पढाई करने के बहाने बैठा रहकर,
नहाकर नही गया तो ,
क्लास के बाहर कर दिया जाऊंगा,
तब बरामदे से फ़िर ठंडी हवा
मेरे
कानो को चूमेगी,
इससे अच्छा है
मै इस ठण्ड का स्वागत
कर लूँ
उसके पंखो को छूकर \

22 टिप्पणियाँ:

दिगम्बर नासवा said...

आपने कोमल कोमल .... इतवार की सर्दी की सुहानी सुबह की याद ताजा कर दी ...........
बहुत ही सुन्दर रचना है ........

Rajey Sha said...

मॉं का आंचल, कि‍सी भी स्‍कूल से ज्‍यादा सि‍खाता है।

Devendra said...

घर की चोखटे सजी है
धूप के टुकड़ों से
----------------
माँ फिरकनी सी
--तरस गई है
कुनकुनी धूप के लिए..

वाह!

MANOJ KUMAR said...

इस रचना में रेखाचित्रनुमा वक्तव्य सयास बांध लेते हैं, रोमांच पैदा करते हैं।

sangeeta said...

शोभना जी ,
सर्दियों का खूब स्वागत कर रही है आपकी रचना .
कुंकुनाती धुप का भी आनंद मिला...बधाई

आनन्द वर्धन ओझा said...

शोभनाजी,
दरवाज़े पर दस्तक दे रही शीत के स्वागत में लिखी आपकी यह कविता रोमांचित करती है ! सुन्दर शब्द-चित्र !
साभिवादन--आ.

अल्पना वर्मा said...

सर्दी के आगमन का बहुत ही सुन्दर चित्रण कर दिया आप ने कविता में !
एक चलचित्र की भांति है यह कविता.
बहुत सुन्दर!

राज भाटिय़ा said...

बहुत सुंदर रचना, लेकिन हमारे यहां तो खुब सर्दी हो रही है, रुम हिटर भी चलते है, ओर बर्फ़ भी एक बार गिर चुकी है, लेकिन आप की कविता ने भारत मी कुन कुनी धूप याद दिला दी.
धन्यवाद

वाणी गीत said...

शीत की कुनकुनी धूप का स्वागत इस गुनगुनाहट के साथ ...लाजवाब ...!!

Apanatva said...

Shobhana ji ye rachana pad ker bahut maza aagaya .
kya likhatee hai aap ....
घर की चोखटे सजी है
धुप के टुकडो से | ati sunder

रश्मि प्रभा... said...

jaade ki gungunahat aur har rishton ka taana-bana, mujhe sihran se bhar gaya

गौतम राजरिशी said...

क्या खूब रचा है मैम...क्या खूब!

मैं तो अभी-अभी कश्मीर वादी की ठिठुरन से निकल कर आया हूं अपने गांव...पूरी तस्वीर खींच दी आपने इस मोहक कविता में।

शरद कोकास said...

हम लोग जहाँ रहते है वहाँ अभी शुरुआत नही हुई है ठंड की इसलिये गत वर्ष की अनुभूतियो से काम चला तहे है अब आपकी कविता भी इसमे जुड गई ।

अमिताभ श्रीवास्तव said...

aapne mujhe mere bachpan ke din yaad dilaa diye, bas kuchh isi prakaar ka to hota tha..vah kya din the/ ynha..naa to thand hoti he naa kuchh esa ehsaas/
दादी बैठी खटिया पर ..pata nahi vo khatiya ab kabhi banegi ki nahi ya dikhegi ki nahi..jo aatmaanand prapt karati thi, pitaji ko bunate dekhta tha... ab in palango me vo sukh nahi..
मालिश का तेल लेकर ..vah..maa deti thi maalish ka tel..aour sardi ki us pyaari si lagne vali dhoop me me maalish nahi karta to maa pakad kar bethaa leti..bas yahi to chaahata tha..maa maalish kare.., uff aapne to meri aankhe hi nam karaa di un dino ki yaad dilaa kar..

Priya said...

aapne to ghar ka scene create kar diya......ye jeeti jagti, chalti firti si rachna bahut pasand aayi

वन्दना अवस्थी दुबे said...

जाडे का अहसास करा गयी ये गुनगुनी कविता..बहुत सुन्दर.

Mrs. Asha Joglekar said...

सुंदर शोभना जी । भारत की सर्दी का चित्र खींच दिया आपने ।
सर्दी पर ही एक रचना मैने भी पोस्ट की है ।

ज्योति सिंह said...

aapki is rachana se bachpan me padhi rachna yaad aa gayi ,jada aaya ,jada aaya ,thandak ne yah hame bataya ,jaada aaya ....
sardi ke mausam se judi hui har baat ki tasvir khich di .sundar rachna .

संजय भास्कर said...

जाडे का अहसास करा गयी ये गुनगुनी कविता..बहुत सुन्दर.

संजय भास्कर said...

बहुत सुन्दर!

Anonymous said...

AV,無碼,a片免費看,自拍貼圖,伊莉,微風論壇,成人聊天室,成人電影,成人文學,成人貼圖區,成人網站,一葉情貼圖片區,色情漫畫,言情小說,情色論壇,臺灣情色網,色情影片,色情,成人影城,080視訊聊天室,a片,A漫,h漫,麗的色遊戲,同志色教館,AV女優,SEX,咆哮小老鼠,85cc免費影片,正妹牆,ut聊天室,豆豆聊天室,聊天室,情色小說,aio,成人,微風成人,做愛,成人貼圖,18成人,嘟嘟成人網,aio交友愛情館,情色文學,色情小說,色情網站,情色,A片下載,嘟嘟情人色網,成人影片,成人圖片,成人文章,成人小說,成人漫畫,視訊聊天室,性愛,a片,AV女優,聊天室,情色

Anonymous said...
This comment has been removed by a blog administrator.