Friday, March 26, 2010

गाँव कि याद बहुत आती है .........


हम सब गाँव से जुड़े है ,गाँव को हमने जिया है हमारी आत्मा में बसा है ,ग्राम्य सरस जीवन |पर आज जो गाँव का तथाकथित विकास हो रहा है ,ऐसी तो कल्पना नहीं कि थी गाँव की |जब भी गाँव जाते है ,निराशा ही हाथ लगती है लगता है बहुत कुछ छूट गया है ,बहुत कुछ बिखर गया है |




गाँव कि याद बहुत आती है
गाँव जा पाना
एक विडम्बना है ?
एक मजबूरी है ?
बिलकुल सच है |
कि हम
गाँव
जाते ही नहीं


गाँधी का गाँव ,
विदेशी वस्तुओ।
का बाजार
मोबाईल के टावरो ने,
नदी किनारों के
मंदिरों कि ध्वजा को,
अपनी ओट में ले लिया है |
इसीलिए
हम गाँव जाते ही नहीं ?

सूखी नदी
कि रेत से
शहर में,
सीमेंट के साथ
मिलकर पक्के घर बना
लेते है
माँ !!
छत के इंतजार में
बैठी ही रह जाती है
खंडहर में,
गाँव में
ये सच है कि
हम गाँव जाते ही नहीं ?

दसियों अंग्रेजी
स्कूल है
बच्चे
"मछली जल कि रानी है "
ही पढ़ पाते है
गाँव में,
और
ये सच है कि
हम गाँव जाते ही नहीं ?

फिल्मो के टेलीविजन
के गाँव ,
सिर्फ
ठाकुरों और दलितों
के गाँव ??
इसीलिए
ये सच है कि
हम गाँव जाते ही नहीं ?

हजारो
डाक्टर
शपथ लेते है
सेवा करने की ,
दर साल
महानगरो में ,
नर्से और रिटायर्ड कम्पौन्दर
स्वास्थ सेवा दे रहे है
गाँवो में
इसीलिए
हम गाँव जाते ही नहीं?

29 टिप्पणियाँ:

ज्योति सिंह said...

हम सब गाँव से जुड़े है ,गाँव को हमने जिया है हमारी आत्मा में बसा है ,ग्राम्य सरस जीवन |पर आज जो गाँव का तथाकथित विकास हो रहा है ,ऐसी तो कल्पना नहीं कि थी गाँव की |जब भी गाँव जाते है ,निराशा ही हाथ लगती है लगता है बहुत कुछ छूट गया है ,बहुत कुछ बिखर गया है
bilkul sach hai aapki baate ,hum apni mitti se door hote jaa rahe ,bahut sundar rachna lagi .

vikas said...

सही कह रही हैं आप,कमियाँ हमारे में ही हैं हम ही इस भाग दौड़ भरे जीवन में इतना व्यस्त हो जाते हैं की पीछे मुड कर देख नहीं पाते और जब देखते हैं तो गवां वही का वहीँ रहता है ...

विकास पाण्डेय
www.vicharokadarpan.blogspot.com

Apanatva said...

bhavmay rachana.............

Nimish said...

kya aapko meri yaad nahin aati hai ??

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' said...

शोभना जी, गांव की संस्कृति अभावों के बावजूद बेजोड़ है.
लेख और कविता प्रभावशाली हैं.
मेरा एक शेर है-
चोट इक दिल पर लगे और दर्द सारे गांव में
भाईचारे का ये आलम है हमारे गांव में...

वाणी गीत said...

गाँव की याद बहुत आती है मगर हम जाते नहीं ...
अब गाँव भी तो उन गाँवों जैसे रहे नहीं ....
मगर ऐसे गाँव आपको लापतागंज में जरुर मिलेंगे ....!!

Suman said...

nice

संजय भास्कर said...

बढ़िया लगी आपकी यह खास प्रस्तुति.....बढ़िया प्रस्तुति के लिए धन्यवाद जी

इस्मत ज़ैदी said...

शोभना जी ,
बहुत प्यारी रचना ,सच भाव विभोर कर गई,

लेकिन आज भी गांव जा कर जो प्यार और अपनापन मिलता है उस का कोई मुक़ाबला नहीं .

sangeeta swarup said...

गांव में भी बदलाव अपेक्षित है...पर अभी भी शहरों से ज्यादा ही अपनापन मिलता होगा गांव में....अच्छी प्रस्तुति...

Babli said...

बहुत बढ़िया लगा ! बहुत ही सुन्दरता से आपने प्रस्तुत किया है! ख़ूबसूरत और मनमोहक रचना! मुझे तो आपका ये शानदार पोस्ट पढ़कर अपना गाँव याद आ गया! सुन्दर चित्र !

शोभना चौरे said...

निमिष मेरा बेटा है ,बहुत दिनों से बेंगलोर नहीं जा पाई इसलिए मुझे उलाहना दे रहा है |

rashmi ravija said...

ओह यह लेख और कविता पता नहीं क्या क्या याद दिला गयी...मुझे भी १५ बरस हो गए ,अपने दादा दादी के गाँव गए...बस ममी-पापा से शहर में ही मिल कर वापस...जिसने भी एक बार भी उन कच्ची सडको,घनी अमराइयों और कलकल नदी का स्वर सुन लिया है....उसे जीवन भर वे यादें कचोटती रहती हैं और उलाहना देती रहती हैं...बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति
और शोभना जी, निमिष के सन्देश में मुझे भविष्य की आहट सुनायी दे गयी...मेरे बच्चे अक्सर कहते हँ, हम जब बाहर जाएंगे तो हम भी तुम्हारी पोस्ट पर कुछ लिखा करेंगे :)

रश्मि प्रभा... said...

hum ganw jate hi nahin.......wah bhi to badal gaya

अजय कुमार said...

गाँव का सहज और सरल जीवन बहुत याद आता है

प्रवीण पाण्डेय said...

गाँव का अपना ही आनन्द है पर वह अनुभव अधिक समय तक टिकता नहीं है, समस्यायें दिखायी पड़ने लगती हैं ।

बेचैन आत्मा said...

bhautikta kii bhag daud me ganv chhoot gaya....dosh hamara hii hai ya vakt kii majboori..chahte to sabhi hain ganv jaana magar ja kar lagta hai ho gaye begana...
jadon se chhootne ka dard hota hii hai.

BrijmohanShrivastava said...

सही बात है गाँव वो नहीं रहे जिनके वाबत कभी कहा गया था ""अहा ग्राम जीवन भी क्या है क्यों न इसे सबका मन चाहे |सीधे सरल ग्रामबासियों को चालाक बना दिया राजनीति ने |तरक्की बेशक हुई है लेकिन रंजिशे भी बड़ी है |सही है हम गाव नहीं जा पाते हमारी भी मजबूरी है |मंदिर की ध्वजा को मोबाइल टावर ने ढँक लिया है यह बात बहुत अच्छी लगी | बजरी का शहर चले जाना मकान निर्माण हेतु और गाव में माँ का खंडहर में बैठी रहना इन लाइनों में काफी दर्द भरा है ।वैसे ट्विंकल ट्विंकल और ईटिंग सुगर नो पापा की व्यवस्था हो चली है अंग्रेज़ी स्कूलों ने ग्रामीण क्षेत्र में पैर फैलाना शुरू कर दिया है ।अच्छे डाक्टर विदेश चले जाते है और डोनेशन से बने डाक्टर शहर छोड़ना नहीं चाहते |बहुत उत्तम रचना ,पूर्ण सच्चाई लिए हुए ॥

Pawan Kumar said...

sach me aapka lekh pad kar muje bhi apne village ki yaad aa gayi

P.N. Subramanian said...

हमने अपने तरीके से इस व्यथा को समझा है. आपने देखा होगा की जब भी कोई ग्रामीण संपन्न हो जाता है, वह निकट के शहर में माकन खरीद लेता है. पूरा परिवार शहर में बस जाता है. गाँव से रिश्ता अस्थायी बन जाता है. केवल खेती बाड़ी के समय. उनके पास निवेश के लिए जो भी होता है वह निवेश गाँव में न होकर शहर में होता है. गाँव की पूँजी शहर में तो गाँव का उत्थान कैसें हो. आपकी इस सुन्दर रचना ने झकझोर दिया. आभार.

दीपक 'मशाल' said...

ये कविता हमारे बचपन के गावों में पहुंचा देती है और फिर से बच्चा बना देती है लेकिन ना तो अब वो गाँव बचे हैं ना वहाँ के लोगों में वो प्रेम..

शोभना चौरे said...

पी .एन .जी
आपने बिलकुल ठीक ही समझा है और कहा है |जिस तरह भारत में उच्च शिक्षा हासिल करके हम विदेशो में जा बसते है |उसी तरह गाँव के बारे में भी यही कहा जा सकता है जिस जमीन कि पैदावार से पले बढे उसकी सुध कहाँ ?पार एक बात जरूर कहूँगी गुजरात के गाँवो में जाकर देखने से पता चलता है वहां के जिस भी परिवार के लोग देश के बाहर या देश के भीतर पैसा कमाते है वो अपने गाँव के लिए कुछ न कुछ चेरिटी या बेसिक साधनों में जरूर तन ,मन ,धन से योगदान करते है विशेषकर कच्छ में मैंने अनुभव किया है |
अपनी मेरी पिछली पोस्ट भी पढ़ी और अपनी अमूल्य राय दी है उसके लिए ह्रदय से आपकी आभारी हूँ |

अमिताभ श्रीवास्तव said...

wah, sidhe sidhe gaanv ki yaad dilvaa di aour us dabi hui kasak ko bhi ubhaar diya jise roke rakha thaa. kher..bahut sundar shbdo se gaanv aour uske hone, na hone ke bhaavo ki abhivyakti he.
doosari baat, blog ka naya roop rang bhi bahut khoobsoorat he/

शोभना चौरे said...

amitabhji
bahut bahut dhnywad .ye sab bahoo neha ki mehnat hai.usne khud hi dijain bnaya hai .

KAVITA RAWAT said...

Sach mein gaon jab bhi jana hota hai to use bhi hamare shahar nazar lag gayee hai, tabhi to pahale jaisa apnapan bahut kam dikhta hai.....
Aapko Bahut shubhkamnaynen.. gaon kee yaad taaja ho gayee...

धान के देश में said...

बहुत बढिया प्रस्‍तुति है। आज अपने तो मुझे गांव की वो गलियां, खेत खलिहान, तालाब व कुएं, पेड पर बैठे बगुलों की यादों को तरोताजा कर दिया। समय मिलने पर गांव जाना का कोशिश तो करता हूं। पर पिछले चार साल से गांव नहीं जा सका हूं। इस बार की छुट़टी में तो जरूर गांव जाउंगा।

ज्ञानदत्त पाण्डेय Gyandutt Pandey said...

यह सच है कि गांव जाते नहीं। जाने लगें तो गांव बहुत से सूत्र देगा और जोड़ेगा - इसमें शक नहीं।

जैसे मुझे लगता है कि वह मुझे सोशल ऑंत्रेपिन्योर बनायेगा।

Shubham Sadh said...

Pranam Taiji, I m also agree with this fact. Rest all is fine.

डॉ. मोनिका शर्मा said...

Ji.... Gaon to ham sabke man me baste hain .....