Saturday, April 03, 2010

बंधन

रात अश्को से
भीगी
आँखों को,
सुबह कि
नमी ने सुखा दिया
रात के गहरे ताप को
सुबह की पहली किरण
मिटा गई
क्षण में सपने बुनती हुई
दूसरे ही क्षण में
सपनों
को
टूटते
देखना
नियति हो गई
उसकी

मुखोटो की दुनिया में
वो अकेली
खडी
रही

मै सारे
पिंजरों को
खोल दू
जिसमे कैद है
मासूम पंछी
मै तमाम
दरवाजे खोल दूं
भीतर है,
बिखरे सपने
मै सारे मुखोटे
खीच लू
जिनके पीछे
छिपे है
शातिर बन्दे

ये पिजरे
ये दरवाजे
ये मुखोटे
तोड़ने लगे है
अब विश्वासों को |

26 टिप्पणियाँ:

ज्योति सिंह said...

भीगी आँखों को,
सुबह कि
नमी ने सुखा दिया
रात के गहरे ताप को
सुबह की पहली किरण
मिटा गई
क्षण में सपने बुनती हुई
दूसरे ही क्षण में
सपनों को
टूटते देखनाये पिजरे
ये दरवाजे
ये मुखोटे
तोड़ने लगे है
अब विश्वासों को
marmik aur bejod ,dil ko sparsh kar gayi ,bahut hi achchhi lagi man nahi bhara ek baar phir aaungi .

ज्ञानदत्त पाण्डेय Gyandutt Pandey said...

ओह! शायद यह अपने को मुक्त करने की कवायद है।

Suman said...

nice

देवेश प्रताप said...

अंतरमन को छु गयी ......ये मार्मिक रचना .......बहुत बढ़िया प्रस्तुति .

प्रवीण पाण्डेय said...

इस स्थिति में, कैसे होगा, सच का सच से सामना ।
चुभते हैं जो टेक हटाकर, पुनः स्वयं को थामना ।

बेचैन आत्मा said...

ये पिजरे
ये दरवाजे
ये मुखोटे
तोड़ने लगे है
अब विश्वासों को
--वाह!
जब तक ये नहीं टूटेंगे विश्वास जम नहीं पाएगा लेकिन कितना मुश्किल है इनको तोड़ना..!
सुंदर अभिव्यक्ति के लिए आभार।

दिगम्बर नासवा said...

गहरे भीगे मन से लिखी कविता ... विश्वास टूटने पर दर्द निकलता है जो कलाम के रास्ते बह निकलता है ...

रश्मि प्रभा... said...

sapno ko tutte dekhna dil se rista hai.....wahi riste shabd hain ye

मनोज कुमार said...

बहुत अच्छी प्रस्तुति। सादर अभिवादन।

रचना दीक्षित said...

बहुत अच्छी प्रस्तुति।
कितना कड़वा सच, एक एक घूंट जहर की तरह गले से कई बार उतारना भी पड़ता है.क्योंकि मज़बूरी ने हमें हर तरफ से घेरा जो होता है

sunita singh said...

dil kochu jane wali kavita jo tute huwe viswas pe tiki hai...............

अमिताभ श्रीवास्तव said...

ये पिजरे
ये दरवाजे
ये मुखोटे
तोड़ने लगे है
अब विश्वासों को |

aadarniya shobhnaji, behad he unmukt hokar likhi he aapne rachna..yah ehasaas hotaa he ek samvedanshil insaan ko jab use apne charo aour dhundhlaahat se dikhti he, machal jaataa he vo kuchh karne ke liye..tab uske paas kalam hoti he aur vo utaar detaa apni abhivyakti..bahut achhi kavitaa he..

sangeeta swarup said...

बंधन को खोलने की छटपटाहट साफ़ अभिव्यक्त हो रही है....अच्छी रचना

HAREKRISHNAJI said...

वा

शरद कोकास said...

विश्वास कितने भी मजबूत दिखें नाज़ुक तो होते ही हैं ।

BrijmohanShrivastava said...

सही है मुखोटों में ज्यादा विश्वास तोड़े है ,इन्ही के पीछे तो शातिर लोग छिपे हुए है |भीगी आँखों को नमी द्वारा सुखाना ,ताप को पहली किरण द्वारा मिटाना और सपनों को नित्य प्रति टूटते देखना अच्छा प्रयोग किया है

kshama said...

Bahut dino baad aayi aur is rachana ko badi der tak padhti rahi..jeevan ki sachhayee darshati yah kavita behad achhee lagi..

Manoj K said...

रात अश्को से
भीगी आँखों को,
सुबह कि
नमी ने सुखा दिया

adhbhut... sirf itna hi kahoonga..

aaj blogging ka pehla din hai aur chahta hoon aaj ki tareekh mein jitna jyada ho sake padh loon..

hem pandey said...

'ये पिजरे
ये दरवाजे
ये मुखोटे
तोड़ने लगे है
अब विश्वासों को |'

-लेकिन जरूरत है इस विश्वास को बनाए रखने की.

仔仔 said...
This comment has been removed by a blog administrator.
हिमान्शु मोहन said...

अपनी मुक्ति से बड़ी कोई मुक्ति नहीं,
विश्वासों के टूटने बड़ा कोई घात नहीं
आपकी रचना अत्यंत सुंदर है। बधाई।

एक निवेदन है, मेरे टिप्पणी से पहले जो जापानी या चीनी लिपि में टिप्पणी है, हटा दें क्योंकि यह एक भद्दी साइट पर ले जा रहा लिंक है।

आशीष/ ASHISH said...

Kavita padhke aisa laga jaise koi saare bandhano se mukt ho unmukt aakash mein udaan bharna chaahta hai!
Lekin sayyaad hai ke mmauka hi nahin deta......
Bhaavuk!

लोकेन्द्र said...

बन्धन है जो खुलते नहीं.....
विश्वाश है जो सिर्फ चंद पर होता है....

水煎包amber said...
This comment has been removed by a blog administrator.
अल्पना वर्मा said...

मै सारे
पिंजरों को
खोल दू
जिसमे कैद है
मासूम पंछी
..marm sparshi rachana .
ant mein vidroh ke swar bhi mukhrit hain.

peeda aur kasak ko vyakt karti hui.

स्वाति said...

रात अश्को से
भीगी आँखों को,
सुबह कि
नमी ने सुखा दिया
रात के गहरे ताप को
सुबह की पहली किरण
मिटा गई

बहुत ही सुंदर कविता ..
ऐसा लग रहा है की मेरे भावों को शब्द मिल गए , मैं भी कुछ ऐसा ही सोच रही थी..