Monday, December 30, 2013

पूजा और फल





ईश्वर को याद करने के,उसकी आराधना करने के  हरेक व्यक्ति के अपने तरीके होते है। अपनी माँ को हमेशा पूजा के बजाय पाठ  करते ही देखा क्योकि घर के देवी देवताओ कि पूजा सिर्फ दादाजी ही करते थे घर कि महिला का पूजा घर उसका रसोईघर था ,जब माँ अपने कर्त्तव्यों से निवृत  हुई तो पठन पाठन को ही अपनी पूजा माना, जिसमे उनकी दैनिक प्रातः  संस्कृत में गाई  गई प्रार्थना घर के वातावरण  को मंदिर बना देती।
उनके इस नियम में शुचिता का कोई खास महत्व नहीं था,और जब विदा ली हम सबसे तो नर्मदा किनारे अपना बचपन बिताने वाली माँ ने बस में नर्मदाष्टक बोलकर खंडवा- इदौर के रास्ते में माँ नर्मदा के दर्शन कर अपने को माँ को समर्पित कर दिया फूलो कि तरह। आज एक पारिवारिक कार्यक्रम में इसी तरह से चर्चाये चल रही थी सबकी अपनी अपनी पूजा के बारे में और उसके फल के बारे में, हम मध्यमवर्गीय लोगो कितनी भी गीता पढ़ ले पर अपने कर्म, फल के साथ ही जोड़ते है, मेरी दादी चाय पीती थी उसके छीटे भी भगवान को अर्पण करती थी ,इतने में एक भाभी बोल उठी मेरी माँ सुबह से घूमने निकलती और ढेर सारे  फूल तोड़ कर लाती  है बरसो से ,हम सब कहते- इतने फूल क्यों चढ़ाती हो ?वो कहती -फूलो कि तरह जाउंगी खुशबु बिखेरती बिना किसी को तकलीफ दिए। ईश्वर ने उनके फूल भी स्वीकार कर लिए।

4 टिप्पणियाँ:

चला बिहारी ब्लॉगर बनने said...

दीदी, एक सही प्रार्थना की मिसाल दी है माता जी ने... सुबह उठकर उगते हुए सूरज को देखना, पंछियों का चकना सुनना, फूलों की खुशबू को महसूस करना, स्कूल जाते मासूम बच्चों को देखना और उस परमात्मा का धन्यवाद करना कि तूने मुझे इनका साक्षात्कार करने का अवसर प्रदान किया.. बस यही तो है पूजा, यही है प्रार्थना!! बहुत गहरी बात बताई आपने!!

Prasanna Badan Chaturvedi said...

बहुत बढ़िया प्रस्तुति...आप को मेरी ओर से नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं...

नयी पोस्ट@एक प्यार भरा नग़मा:-तुमसे कोई गिला नहीं है

Digamber Naswa said...

नितन्तर , बिना किसीको कोई दुख पहुंचाए सात्विक भाव से जो भी किया हो वो पूजा से कम नहीं है ... भाव पूर्ण लिखा है ...
नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें ...

shobhana said...

Vah