Saturday, June 06, 2009

आँखों की नमी

तुम अपना घर छोड़ कर चली गई
सिर्फ़ इसलिए की
मेरी माँ को मै
उनकी आंखे लौटा संकू
जबकि
तुम जानती थी
वो आंखे मिलने पर
चली जावेगी

तुम फ़िर
अपना घर समझ कर
वापिस आ गई
तब माँ
अपना बेटा तुम्हे
सोपकर
आँखों में नमी लिए चली गई


आज तुम फ़िर
अपना घर छोड़कर
चली गई हो
अपने बेटे के पास
अपना दिल बदलवाने

मै इंतजार में हूँ

क्या?

तुम नया दिल लेकर
मेरी माँ की
आँखों की नमी
सुखा पाओगी ?

(इमेज सोर्स - ग्लास्शेअर्ट्स.ओआरजी)

8 टिप्पणियाँ:

Mamta said...

man or mastishk ko bhi nam kiya shbhana bahan ko badhai|

दिगम्बर नासवा said...

बार बार पढने के बाद आपकी रचना में छिपे भाव को........उसके दर्द को महसूस कर सका..............मार्मिक रचना है......... गहरी अनुभूतियों के बाद ऐसे रचनाओं का जन्म होता है

डॉ. मनोज मिश्र said...

आँखों की नमी
सुखा पाओगी ? ..
गहन भावाभिव्यक्ति .

परमजीत बाली said...

आप की रचना मे एक अजीब सा दर्द छुपा है।बहुत बढिया रचना है।

mark rai said...

आज तुम फ़िर
अपना घर छोड़कर
चली गई हो
अपने बेटे के पास
अपना दिल बदलवाने
मार्मिक रचना है...

अमिताभ श्रीवास्तव said...

shobhnaji,
is kavita ke bhavo ko baariki se samjhne ke liye 3-4 baar to padhha hi, aour khasiyat dekhiye ki har baar alag alag bhav mastishk me tere///
aapki kavita me pahle to mujhe bhatkaav lagaa/ baad me lagaa ki nahi kuchh he isme..fir padhha to lagaa vaah aapki antartam pethi bhavnaa aour maa ke prati chaah spasht ho rahi he...ant me samjha apni chhoti si budhhi ke anusaar ki aap kahnaa kya chah rahi he///
achha lagaa/////kavita ke is roop me bhi apni ek baat hoti he//pasand aai/

शोभना चौरे said...

amitabhji
dhnywad
aapne jo teen char bar kavita pdhi .
darasl ak prichita apne bete ke ghar
dil ka elaj kavane bde shar me aai jha beta rhta tha prntu unke vha jane ke phle hi unki bahu apne mayke chali gai .jab maine ye khabr suni to turant hi man ke bhav kvita bankar a gye .meri kmjori hai ki mai kavita ki kalpna nhi kar skti jo mere aaspas hota hai bas use likh deti hu .

aap sbhi logo ko dhnywad jo aapne ise sraha .

Babli said...

आपकी टिपण्णी के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!
आपकी हर एक रचना दिल को छू जाती है! बहुत ही उम्दा लिखा है आपने!